Motivational Story - सब्र (Patience )

एक बार फिर एक ज्ञान वर्धक कहानी लेकर आपके सामने आया हूँ ...

स्कूल में टीचर ने अपने क्लास के सभी बच्चों को एक-एक स्वादिष्ट टॉफ़ी दी और फिर एक अजीब बात कही...

सुनो, बच्चों ! आप सभी को दस मिनट तक अपनी टॉफ़ी नहीं खानी है और यह कहकर वह क्लास रूम से बाहर चले गए । कुछ पल के लिए क्लास में सन्नाटा छाया रहा, हर बच्चा अपने सामने रखी टॉफ़ी को देख रहा था और हर गुज़रते पल के साथ खुद को रोकना मुश्किल पा रहा था । दस मिनट पूरे हुए और टीचर क्लास रूम में आ गए। समीक्षा की । पूरी क्लास में सात बच्चे ऐसे थे, जिनकी टॉफ़ियां ज्यों की त्यों थी, जबकि बाकी के सभी बच्चे टॉफ़ी खाकर उसके रंग और स्वाद पर बातें कर रहे थे। टीचर ने चुपके से इन सात बच्चों के नाम अपनी डायरी में लिख लिये । किसी को कुछ नहीं कहा और पढ़ाना शुरू कर दिया ।

कुछ वर्षों के बाद टीचर ने अपनी वही डायरी खोली और सातों बच्चों के नाम निकाल कर उनके बारे में जानकारी प्राप्त की। उन्हें पता चला कि सातों बच्चों ने अपने जीवन में कई सफलताओं को हासिल किया है और अपनी-अपनी फील्ड के लोगों में सबसे सफल रहे हैं। टीचर ने अपनी उसी क्लास के शेष छात्रों की भी जानकारी प्राप्त की और यह पाया कि उनमें से ज्यादातर बच्चे साधारण जीवन जी रहे हैं, जबकि उनमें कुछ ऐसे भी थे जिन्हें कठिन आर्थिक और सामाजिक परिस्थितियों का सामना करना पड़ रहा है। इस शोध का परिणाम टीचर ने एक वाक्य में यह निकाला कि - "जो व्यक्ति केवल दस मिनट धैर्य नहीं रख सकता, वह जीवन में कभी आगे नहीं बढ़ सकता।" इस शोध को दुनिया भर में शोहरत मिली और इसका नाम "मार्श मेलो थ्योरी" रखा गया था क्योंकि टीचर ने बच्चों को जो टॉफ़ी दी थी उसका नाम "मार्श मेलो" था। इस थ्योरी के अनुसार दुनिया के सबसे सफल लोगों में कई गुणों के साथ एक गुण 'धैर्य' अवश्य पाया जाता है, क्योंकि यह गुण इंसान में बर्दाश्त करने की ताक़त को बढ़ाता है, जिसकी बदौलत आदमी कठिन परिस्थितियों में भी निराश नहीं होता और वह एक सफल व्यक्ति बन जाता है। इसलिए सफल जीवन और सुखद भविष्य के लिए बचपन से ही बच्चों में धैर्य के गुण का विकास करें। धैर्य, सब्र(Patience )सभी को करना पड़ता है। कोई भी सीधी अपने लक्ष्य तक नही पहुँच सकता. जैसे- आप पढ़ाई करते है तो सीधी कॉलेज में नही पहुँच जाते है। आपको पहली, दूसरी कक्षों से होते हुए धीरे-धीरे कॉलेज में पहुँचते है या आप खाना बनाते है तो वह तुरंत नही बन जाता आपको कुछ समय इंतजार करना पड़ता है खाना के पकने के लिए। वैसे ही जीवन में सफलता के लिए आपको सब्र रखना पड़ता है। अपने असफलताओं से निराश नही होना चाहिए, सब्र और मेहनत करते रहे आपको सफलता जरुर मिलेगा। धैर्य आपको ऐसे अवसर भी प्रदान कर सकता है जिससे आप आसानी से अपने लक्ष्यों तक पहुँच जाए। इसलिए सब्र करते रहे।
दोस्तों अगर आप जीवन में सफलता चाहते हो तो आपके अंदर सब्र का होना बहुत ज़रूरी है, जिस व्यक्ति में धैर्य नहीं होता वो व्यक्ति बहुत ही कमज़ोर होता है | एक बहादुर व्यक्ति वही होता है जिसमें सब्र होता है किसी भी काम में कामयाबी हासिल करने के लिए सबसे पहले आपको संयम बनाए रखना होगा, दोस्तों सब्र करना सीखो जीवन में वक़्त के साथ सब कुछ ठीक हो जाता है बस आपके अंदर सब्र होना चाहिए, सब्र का फ़ल भले ही थोड़ी देर से मिले लेकिन इसके द्वारा मिला हुआ फ़ल निश्चित रूप से मीठा ही होता है !

यदि किसी ने आपका दिल दुखाया तो सब्र करो यकीन मानो उसका जवाब खुद वक़्त देगा जिस इंसान में कठिन से कठिन समय में भी सब्र करने की ताक़त होती है यकीन मानो वो दुनियां का सबसे ताक़तवर इंसान होता है, जल्दबाज़ी में लिया गया हर फैसला नुकसान ही देता है इसलिए ही तो कहा जाता है की सब्र करो।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ