Why do you constantly try to get success / आप सफलता पाने के लिए लगातार प्रयास क्यों करें .

एक समय की बात है ,एक राज्य में एक प्रतापी राजा राज करते थे ,एक दिन उसके दरबार में एक विदेशी आगंतुक आया और उसने राजा को एक सुंदर पत्थर उपहार स्वरूप प्रदान किया। 

राजा वह पत्थर देख बहुत प्रसन्न हुआ। उसने उस पत्थर से भगवान विष्णु की प्रतिमा का निर्माण कर उसे राज्य के मंदिर में स्थापित करने का निर्णय लिया और प्रतिमा निर्माण का कार्य राज्य के महामंत्री को सौंप दिया। 

महामंत्री गाँव के सर्वश्रेष्ठ मूर्तिकार के पास गया और उसे वह पत्थर देते हुए बोला, “महाराज मंदिर में भगवान विष्णु की प्रतिमा स्थापित करना चाहते हैं,सात दिवस के भीतर इस पत्थर से भगवान विष्णु की प्रतिमा तैयार कर राजमहल पहुँचा देना।  इसके लिए तुम्हें 100  स्वर्ण मुद्रायें दी जायेंगी। ”

100 स्वर्ण मुद्राओं की बात सुनकर मूर्तिकार ख़ुश हो गया और महामंत्री के जाने के उपरांत प्रतिमा का निर्माण कार्य प्रारंभ करने के उद्देश्य से अपने औज़ार निकाल लिए और अपने औज़ारों में से उसने एक हथौड़ा लिया और पत्थर तोड़ने के लिए उस पर हथौड़े से वार करने लगा। किंतु पत्थर में किसी भी प्रकार का फर्क नहीं पड़ा। मूर्तिकार ने हथौड़े के कई वार पत्थर पर किये।  लेकिन  पत्थर नहीं टूटा। 

99 बार प्रयास करने के उपरांत मूर्तिकार ने अंतिम बार प्रयास करने के उद्देश्य से हथौड़ा उठाया , लेकिन  यह सोचकर हथौड़े पर प्रहार करने के पूर्व ही उसने हाथ खींच लिया कि जब 99 बार करने से पत्थर नहीं टूटा , तो अब क्या टूटेगा। 

वह पत्थर लेकर वापस महामंत्री के पास गया और उसे यह कह वापस कर आया कि इस पत्थर को तोड़ना नामुमकिन है , इसलिए इससे भगवान विष्णु की प्रतिमा नहीं बन सकती हैं। 

महामंत्री को राजा का आदेश हर स्थिति में पूर्ण करना था।  इसलिए उसने भगवान विष्णु की प्रतिमा निर्मित करने का कार्य गाँव के एक साधारण से मूर्तिकार को सौंप दिया।  पत्थर लेकर मूर्तिकार ने महामंत्री के सामने ही उस पर हथौड़े से प्रहार किया और वह पत्थर एक बार में ही टूट गया। 

पत्थर टूटने के बाद मूर्तिकार प्रतिमा बनाने में जुट गया , इधर महामंत्री सोचने लगा कि काश, पहले मूर्तिकार ने एक अंतिम प्रयास और किया होता, तो सफ़ल हो गया होता और 100 स्वर्ण मुद्राओं का हक़दार बनता 99 प्रयासों में ही हार मान ली। 

मित्रों, हम भी अपने जीवन में ऐसी परिस्थितियों से दो-चार होते रहते हैं। कई बार किसी कार्य को करने के पूर्व या किसी समस्या के सामने आने पर उसका निराकरण करने के पूर्व ही हमारा आत्मविश्वास डगमगा जाता है और हम प्रयास किये बिना ही हार मान लेते हैं। 

life में  हम एक - दो प्रयास में असफलता मिलने पर आगे प्रयास करना छोड़ देते हैं। जबकि हो सकता है कि कुछ प्रयास और करने पर कार्य पूर्ण हो जाता या समस्या का समाधान हो जाता हैं। 
शिक्षा :– यदि life में सफलता प्राप्त करनी है , तो बार-बार असफ़ल होने पर भी तब तक प्रयास करना नहीं छोड़ना चाहिये, जब तक सफ़लता नहीं मिल जाती हैं। क्या पता, जिस प्रयास को करने के पूर्व हम हाथ खींच ले , वही हमारा अंतिम प्रयास हो और उसमें हमें कामयाबी प्राप्त हो जाये। 

अगर आपको हमारी Motivatonal Story अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों के साथ भी Share कीजिये और Comment में अवश्य बताए की हमारी Motivatonal Story आपको कैसी लगी। 

धन्यवाद !!!

Post a Comment

0 Comments