How to make your packaging powerful / अपनी पैकिजिंग दमदार कैसे बनाये...

ये कहानी हैं अमेरिका के एक प्रसिद्ध गिटारिस्ट की।  एक बार  ट्रैन से सफर कर रहा था तभी ट्रैन को आने में समय था वह स्टेशन पर बैठा हुआ था उसने सोचा  मैं इतना अच्छा गिटार play करता हूँ  देखते हैं यहाँ कौन  मुझे पहचानता  हैं और यहॉं कितनी भीड़ इक्कठी होती हैं। और वह उस लोकल स्टेशन पर गिटार प्ले करने लगा।  वो घंटो तक वहा गिटार बजाता रहा लोग वहा  से निकलते ,कुछ डॉलर फेकते और चले जाते , यह देख वह सोचता हैं आखिर मैं इतना अच्छा संगीत प्रस्तुत रहा हूँ फिर भी लोग सुनने  की बजाये कुछ डॉलर  फेक कर चले जा रहे हैं किसी ने भी उसकी स्किल,  टेलेंट, उसके म्यूजिक पर ध्यान नहीं दिया वो तो बस चले जा रहे थे।  

                           कुछ समय  बाद अमेरिका के उसी  शहर में एक musical  concert  था जिसका टिकट 100 से 500 डॉलर था auditorium  पूरा खचा खच भरा हुआ था यानि के उस एक कॉन्सर्ट का profit  लाखो डॉलर में था और जानते हैं मजे की बात यह थी कि वो concert  में प्रसिद्ध  गिटारिस्ट गिटार बजाने बाला था कॉन्सर्ट पूरा होने पर सभी लोगो ने उसकी काफी प्रशंसा की और उसके talent का लोहा भी माना।

                        
                                 
कहने का मतलब  यही हैं कि व्यक्ति वही हैं पर अंतर कितना अधिक ,वही गिटारिस्ट 1-2 डॉलर के लिए घंटो बजा रहा था तो वही उस कॉन्सर्ट कुछ घंटे में name, fame, money  तीनो मिल गए थे क्योंकि वहा  पर उसके आर्ट की भी कीमत थी,म्यूजिक की भी कीमत थी ,पता हैं लोकल स्टेशन और कॉन्सर्ट में गिटार भी वही था गिटारिस्ट भी वही था अंतर था तो स्थान का जहा लोग उसे एक सामान्य व्यक्ति समझ  कुछ डॉलर फेक रहे थे वही कॉन्सर्ट में उसे ध्यान से सुन रहे थे और टेलेंट को भी appreciate  कर रहे थे।


                                                 
                                     यदि हीरे के टुकड़े को कांच  के डिब्बे में मिला दे तो उसकी कीमत नहीं होती उसे पहचानना काफी  कठिन  होता हैं लेकिन वही आप जब किसी जौहरी  के पास हीरा खरीदने जाते तो वह आप को पहले चाय, कॉफ़ी ,कोल्ड्रिंक पिलाता हैं धीरजता  से आपको बैठाता  A.C. ऑन  करता हैं आपके सामने बेलबेट  के कपडे को रखता हैं फिर  हीरे का डिब्बा निकल कर हीरा आपको दिखाता हैं और एक एक रिंग को इतनी बारीकी से पेश करता तब आपको समझ आता वो हीरा हैं।

             मैं यही कहूंगा जो दिखता हैं वही बिकता हैं, जिसकी पैकेजिग  दमदार होती हैं वही प्रोडक्ट बाजार में उम्दा rate  पर बिकता हैं जो सही वैल्यू के साथ प्रस्तुत होता हैं उसी का सम्मान होता हैं  इसे  इस बात से समझे यदि मैं आपको किसी व्यक्ति से मिलाओ और उसके बारे में कुछ न बताओ तो आप उसे साधारण समझेगे और वही  आपसे कहूं की मैं आपको इस फेमस पर्सनाल्टी से introduce  करा रहा हूँ तो आपकी भाव भंगिमाएं स्वतः ही बदल जायेगी क्योंकि मैंने आपके सामने उस व्यक्ति की पैकजिंग इतनी दमदार  कर दी की आप उसे देखने के लिए आतुर दिख रहें होंगे क्योकि  मेरे द्वारा आप के सामने  उस आदमी की value  create  कर दी गयी हैं।

                इसलिए अपने आप को कभी हल्के में प्रेजेंट मत करिये अपनी इम्पोर्टेंस  खुद समझिये ,कभी हल्के  लोगो के साथ मत रहिये यदि आप गलत लोगो के साथ रहेंगे तो आप कितना ही प्रयास कर लेना आपकी रेपुटेशन प्रभावित होना ही हैं। क्योकि किसी व्यक्ति के पास इतना टाइम नहीं की वो समझे की आप कीचड  में कमल हैं।

                अतः जीवन में जहाँ  पहुंचना चाहते हो वैसी संगत रखो अपनी पर्सनाल्टी  वैसी बनाओ ,जहाँ पहुंचना चाहते हो उस स्तर की बात करो ,जहाँ पहुँचना  चाहते हो  वैसी बुक्स ,सेमीनार ,कॉन्सर्ट  अटेंड करो, उस स्तर  का व्यवहार करो तब आपकी इज़्ज़त उस स्तर की होगी और आप जहाँ जाना चाहते वहाँ पहुंच पाएँगे। इसलिए अपनी ब्रांड वैल्यू स्वयं create  करें।

             दुनिया में पैकेजिंग बहुत इम्पोर्टेन्ट हैं हमे सबसे पहले अपनी स्वयं की इज़्ज़त करनी होगी और अपनी मार्किट के लिए पैकजिंग  भी शानदार रखनी होगी तभी हम इस दुनिया में निखर पाएंगे और सूरज की तरह दमक पाएंगे ।


" कभी भी किसी व्यक्ति का सम्मान नहीं होता , सम्मान तो उसकी स्थिति और परिस्थिति का होता हैं।"


Post a Comment

0 Comments