3 Problems Related To "Children's" / "Children's Care" / "Parents and their children's "


यदि आप अपने बच्चो में नैसर्गिक विकास ,उनका भविष्य सुनहरा बनाना चाहते हैं तो इस लेख को ध्यान से पढ़े ,क्योँकि यह लेख पुराणों में कही गयी बातों, गीता के विचारो और आज के child psychologist के विचारों को समाहित कर तैयार किया गया हैं। जो बच्चो के पालन पोषण के लिए आपकी मदद करेंगे। क्योंकि  बच्चे नर्म  मिट्टी की तरह होते हैं उन्हें जैसे साँचे में ढाले  वैसा रूप ले लेते हैं यदि आज आप बच्चों  को iउनके व्यवहार के लिए दोष दे रहें तो  कही कहीं आपकी भी गलती हैं। इसलिए उनकी परवरिस पर ध्यान दें।



बच्चो से सम्बंधित समस्याएँ 

 

problem 1:-

 

क्या आपके बच्चे दूसरों से ईर्ष्या करते हैं ? ,

क्या वो दूसरों की तारीफ आपके मुँह से नहीं सुनना  चाहते हैं?

 

 कारण :-

 

उनकी  ऐसी सोच आप ही विकसित करते हो क्योंकि आप उन्हें हमेशा यही कहते हो यदि तुम क्लास में इतने मार्क्स लाये तो तुम्हे ये नहीं देंगे , पडोसी का लड़का इतने मार्क्स लाया हैं इस तरह आप स्वतः ही एक स्पर्धा का माहोल कर देते हो, जबकि हर बच्चा अपने आप में यूनिक होता हैं। उसे लगता हैं, बधाई केवल जीतने  वाले को ही मिलेगी और वो कितना भी अच्छा कर ले पर टॉप नहीं किया उसे कोई appreciate  नहीं करेगा।

 इसलिए वो उन बच्चो से ईर्ष्या करने लगता हैं और उसमे स्वयं को हीन समझने लगता हैं।

 

                                                   अब आप सोचेंगे इसका solution  क्या हैं तो आपको अपने बच्चे के exam  performance  से ज्यादा उसके पिछली क्लास से इस क्लास  में आये improvement  के लिए सराहना करनी चाहिए और किसी अन्य से तुलना करना भी बंद करना चाहिए।

 

                                      कहने का मतलब हैं आज से आप उसके हर improvement  पर उसकी तारीफ करें चाहे वह खेल से सम्बंधित हो या पढ़ाई  से सम्बंधित हो आप जीतने की तारीफ करना छोड़  दे। 

 

problem 2.:-

 

क्या आपका बच्चा आपसे secret share  नहीं करता हैं?

क्या  mobile  के अलग passward बनाकर छिपता  हैं

क्या आपको देख कर T.V. चैनल  बदल लेता हैं?

क्या  जरुरी बात पर topic  बदल देता हैं?

 क्या आपके सामने phone  पर बात नहीं करता हैं?

क्या आपसे अपनी पर्सनल बात share  नहीं करता हैं?

 

 कारण :-

उसे आपके ऊपर भरोसा  नहीं हैं ,आप उसके सीक्रेट सुनते ही उसे डांटेगे या उसके सीक्रेट सबको बता देंगे ,अपने अपमान के डर , ego  के कारण  वो अपनी सभी बाटे  अपने माता पिता से share  नहीं करते हैं  और ध्यान दे यदि आपका बच्चा आज के इस युग में सीक्रेट share  नहीं कर रहा तो बहुत risk  हैं। क्योंकि यदि वह किसी problem में जाये और आप से share  करके किसी अन्य लोगो से करने लगे तो और मुसीबत में भी पड़  सकता हैं। क्योंकि  बच्चो के सच्चे हितैषी उनके माता पिता होते हैं।

 

                            अब सोचे इसका सलूशन क्या हैं तो इसका सलूशन उनके द्वारा की गयी गलती को नज़रअंदाज़ करना पर अगली बार होने की warning  भी देना।

 

problem 3. :-

 

क्या आपका बच्चा बहुत गुस्सा करता हैं ?,

क्या बात बात पर रूठ  जाता हैं ?

क्या  tentrums और नाटक बाज़ी करता हैं ?

 

कारण :-

 

ऐसा इसलिए हैं क्योंकि आप उसके मिस्बेहेवियर पर बहुत ध्यान देते हैं  और उसे पता हैं में यदि उनसे रूठ  जाऊँ  या गुस्सा करूँ तो मेरे माता पिता मुझे हर चीज़ ला कर देंगे बच्चो  का उद्देश्य  आपका  ध्यान खींचना होता हैं उसे लगता हैं यदि में कुछ हंगामा करूँ तोड़ फोड़ करूँ तो उसके पेरेंट्स उसे हर चीज़ दे देंगे। 


इसका solution  क्या हैं यही हैं आज से आप उसके अच्छे behaviour  पर ही ध्यान दे उसके अच्छे बेहेवियर पर उसे रिवॉर्ड दे उसके गुस्से को  ignore  कर दें कुछ time  बाद वो गुस्सा करना बंद कर देगा।

 

और आज के समय में  सबसे बड़ी समस्या  हर माता पिता की यही संशय हैं की उसे अपना बच्चा औसत नहीं बल्कि topper  चाहिए कुछ हद तक बात भी सही हैं पर हर बच्चा क्लास में टॉप करें , खेल  में अच्छा हो  ऐसा संभव नहीं हैं क्योंकि हर बच्चा सभी जगह अच्छा करे ऐसा  संभव इसलिए उसके किसी एक क्षेत्र को पहचान कर उसे आगे बढ़ाएं।  क्योंकि यदि वो एक क्षेत्र में भी excellent  हो गया तो अपनी लाइफ secure कर लेगा। 

  

  


माता-पिता पर हमेशा ध्यान देने वाली बातें: -

बच्चों के व्यक्तित्व को स्वतंत्र रूप से विकसित करने की अनुमति दें, लेकिन आपके मार्गदर्शन में, यदि आप उन्हें कदम से कदम रखने की सलाह देते हैं, तो भविष्य में उनके निर्णय लेने में बच्चों को शामिल किया जाएगा। आज के समय में, हर माता-पिता की सबसे बड़ी समस्या यह है कि वह एक औसत बच्चा नहीं बल्कि एक टॉपर होना चाहिए। कुछ हद तक, यह सही भी है, लेकिन हर बच्चे को कक्षा में टॉप करना चाहिए, खेल में अच्छा होना संभव नहीं है क्योंकि हर बच्चा हर जगह अच्छा कर सकता है, इसलिए अपने क्षेत्रों में से एक को पहचानें और उसका पीछा करें। क्योंकि अगर वह एक क्षेत्र में भी उत्कृष्ट प्रदर्शन करता, तो वह अपने जीवन को सुरक्षित कर लेता।

                      अगर आपको हमारे विचार अच्छे लगे  हो तो अपने दोस्तों के साथ भी Share कीजिये और Comment में अवश्य बताये की हमारे विचार आपको  कैसे  लगे

धन्यवाद !!!


Post a Comment

0 Comments